जानिए :विश्वप्रसिद्ध मधुबनी पेंटिंग के इतिहास को

0
454

हम सबने मधुबनी पेंटिंग को देखा होगा …क्या आपने ये कभी सोचा है की ये पेंटिंग चर्चित कैसे हुई |आखिर इसके प्रचलित होने के पीछे वजह क्या है | आईये जाने इस रोचक तथ्य को |

मिथिला चित्रकला,चूँकि एक घरेलू अनुष्ठान गतिविधि के रूप में सिर्फ मिथिला की महिलाओं द्वारा अपने अपने घर की दीवारों पर बनाया गया एक  चित्र मात्र था इसी वजह से ये बाहर की दुनिया के लिए अज्ञात था ।

मिथिला चित्रकला, के बारे में बाहरी दुनिया को पहली बार पता तब चला जब 1 9 34 के बड़े पैमाने पर बिहार भूकंप आई । हुआ यूँ की , जब घरों की दीवारें ढह गई तो और मधुबनी जिले के ब्रिटिश औपनिवेशिक अधिकारी विलियम जी आर्चर ने क्षतिग्रस्त घरो का निरक्षण किया । उन्होंने जब दीवारों पर बनी हुई नायब तस्वीरों को देखा देखकर दंग रह गए । उन्होंने इस चित्र की सुंदरता की तुलना लंदन के विक्टोरिया और अल्बर्ट संग्रहालय में मौजूद – क्ली, मिरो, और पिकासो जैसे आधुनिक पश्चिमी कलाकारों के कामों से की ।

कैसे ये पेंटिंग आपदा के बाद गरीब हुए लोगो के आय का सहारा बना

इसके बाद 1 9 60 के दशक के अंत में फिर से एक गंभीर प्राकृतिक आपदा आयी । इससे मधुबनी के गांव बिलकुल आर्थिक रूप से कमजोर हो गए थे ।, अखिल भारतीय हस्तशिल्प बोर्ड ने मधुबनी के चारों ओर के गांवों में महिलाओं को आय बनाने के लिए परियोजना के रूप में अपनी परंपरागत दीवार चित्रों को पेपर में स्थानांतरित करने के लिए प्रोत्साहित किया। पेंटिंग्स को अखिल भारतीय हस्तशिल्प बोर्ड खरीद कर बेचती थी इस तरह से ये पेंटिंग मिथिला क्षेत्र के बहुत सारे बर्बाद हुए घरो के लिए आय का श्रोत बना

विदेश में पेंटिंग का प्रचार

क्षेत्र की समृद्ध संस्कृति को  अपने चित्र के माध्यम से दिखाना , “लाइन पेंटिंग” और “रंगीन पेंटिंग” में महारथ हासलील कर के इन महिलाओं में से कई शानदार कलाकार बन गए । उनमें से चार जल्द ही यूरोप, रूस और संयुक्त राज्य अमेरिका में सांस्कृतिक मेलों में भारत का प्रतिनिधित्व कर रहे थे। उनकी राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय पहचान ने कई अन्य जातियों के कई अन्य महिलाओं को प्रोत्साहित किया – जिनमें हरिजन या दलित, पूर्व- “अस्पृश्य” भी शामिल थे – साथ ही साथ पेपर पर पेंटिंग शुरू करने के लिए भी।

1 9 70 के दशक के अंत तक, पेंटिंग की लोकप्रिय सफलता का मुख्य कारण भारतीय चित्रकला परंपराओं से अलग हटके चित्र का लगना था जिसने नई दिल्ली के पेंटिंग डीलरों को खूब आकर्षित किया । रामायण के सबसे लोकप्रिय देवताओं के बड़े पैमाने पर उत्पादित चित्रों औरकी मांग सबसे ज्यादा रही । गरीबी से बाहर निकलने के लिए , कई चित्रकारों ने डीलरों की मांगों का अनुपालन किया, और “मधुबनी पेंटिंग्स” के रूप में जाने वाली तेज़ और दोहराव वाली छवियों का उत्पादन किया। फिर भी, कई बाहरी लोगों के प्रोत्साहन के साथ – दोनों भारतीय और विदेशी – एक ही सौंदर्य परंपराओं के भीतर काम करने वाले अन्य कलाकारों ने अत्यधिक तैयार की गई, गहरी व्यक्तिगत और तेजी से विविध काम का निर्माण करना जारी रखा, जिसे अब “मिथिला चित्रकारी” कहा जाता है।

महिलाओं द्वारा शुरू की गयी चिरत्कारी एक रूढ़िवादी परमपरा का अंत था

मिथिला लंबे समय से भारत में अपनी समृद्ध संस्कृति और कई कवि, विद्वानों और धर्मशास्त्रियों   यानि पुरुषो के कारण प्रसिद्ध थी – जबकि महिलाओं के लिए, यह एक रूढ़िवादी समाज रहा है और जब तक पेपर पर पेंटिंग शुरू नहीं हुई| 40+ साल पहले, ज्यादातर महिलाएं अपने घरों तक सीमित थीं और घरेलू घर के काम, बाल पालन, परिवार के अनुष्ठानों का प्रबंधन, और धार्मिक दीवार चित्रकला के लिए सीमित थी। महिलाओं द्वारा शुरू की गयी चित्रकला एक रूढ़िवादी परंपरा का अंत था|

इसे पढ़े       महात्मा गाँधी ने चम्पारण सत्याग्रह आंदोलन का नेतृत्व कैसे किया

पेपर पर चित्रकारी और प्रसिद्धि 

जब पेपर पर चित्रकारी होने लगी और ये जब ये बाज़ार में बिकने लगी तब नई पारिवारिक आय पैदा करने के अलावा,   बहुत सारी महिलाओं ने व्यक्तिगत  रूप में  स्थानीय, राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय मान्यता प्राप्त की है | कलाकारों को पूरे भारत, और यूरोप, अमेरिका और जापान में प्रदर्शनियों के लिए आमंत्रित किया जाने लगा |अब मिथिला के लोक कलाकार किसी परिचय के मोहताज़ नहीं हैं जहां एक बार उनके चित्र “गुमनाम” थे, अब वे गर्व से हस्ताक्षर किए  जा रहे हैं | आर्थिक सफलता के साथ मिथिला के लोक कलाकार  अब यात्रा करने लगे है और विदेशो में भी अपने चित्रकारी के लाइव शो करने लगे हैं | रेडियो  और अब टीवी  पर  प्रचार उनकी इस कला को पुरे विश्व में फैला रहा है |

मधुबनी कला में पांच विशिष्ट शैलियाँ

मधुबनी कला में पांच विशिष्ट शैलियों, अर्थात् भर्णी, कच्छनी, तांत्रिक, गोदा और कोहबर हैं। 1 9 60 के दशक में भर्णी, कच्छनी और तांत्रिक शैली मुख्य रूप से ब्राह्मण और कायस्थ महिलाओं द्वारा की जाती थी, जो भारत और नेपाल में ‘ऊंची जाति’ की महिलाएं थी उनके विषय मुख्य रूप से धार्मिक थे और उन्होंने अपने चित्रों में देवताओं और देवियों, वनस्पतियों और जीवों को चित्रित किया। वही निचली जातियों के लोगों की चित्रकारी में उनके दैनिक जीवन और प्रतीकों, राजा शैलेश [गांव की रक्षा] की कहानी और आदि उनके चित्रों में शामिल था । लेकिन आजकल मधुबनी कला वैश्वीकृत कला रूप बन गई है, इसलिए जाति व्यवस्था के आधार पर इस क्षेत्र के कलाकारों के काम में कोई अंतर नहीं है। अब सभी लोग पांचों शैलियों में काम कर रहे हैं। इसी वजह से मधुबनी कला को विश्वव्यापी ध्यान मिला है।

कलाकार और पुरस्कार
सीता देवी
मधुबनी पेंटिंग को 1 9 6 9 में आधिकारिक मान्यता मिली जब मधुबनी के पास जितवारपुर गांव की रहने वाली सीता देवी को बिहार सरकार ने राज्य पुरस्कार प्राप्त किया। 1 9 75 में, सीता देवी को राष्ट्रीय पुरस्कार दिया। 1 9 81 में सीता देवी को पद्मश्री मिली थी। सीता देवी को 1 9 84 में बिहार रत्न और 2006 में शिल्प गुरु द्वारा भी सम्मानित किया गया ।
जगद्ंबा देवी
मधुबनी पेंटिंग में अविश्वश्नीय योगदान के लिए भारत के राष्ट्रपति ने जगद्ंबा देवी को पद्मश्री पुरस्कार से नवाजा था
गंगा देवी
1 9 84 में गंगा देवी को पद्मश्री द्वारा सम्मानित किया गया था।

महासुंदरी देवी
2011 में महासुंदरी देवी को पद्मश्री मिली थी ।

इसके अलावा

बौवा देवी, यमुना देवी, शांति देवी, चानो देवी, बिंदेश्वरी देवी, चंद्रकला देवी, शशि कला देवी, लीला देवी, गोदावरी दत्ता और भारती दयाल ,चंद्रभूषण, अंबिका देवी, मनीषा झा को भी राष्ट्रीय पुरस्कार दिया गया।

BUY madhubani paintings

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here